fbpx

भारतीय संविदा अधिनियम की धारा 143 | Indian Contract Act Section 143

भारतीय संविदा अधिनियम Indian Contract Act (ICA Section-143) in Hindi के विषय में पूर्ण जानकारी देंगे। भारतीय संविदा अधिनियम की धारा 143 के अनुसार कोई भी प्रत्याभूति जो लेनदार ने तात्त्विक परिस्थिति के बारे में मौन धारण से अभिप्राप्त की है, अविधिमान्य है, जिसे IC Act Section-143 के अन्तर्गत परिभाषित किया गया है।

भारतीय संविदा अधिनियम की धारा 143 (Indian Contract Act Section-143) का विवरण

भारतीय संविदा अधिनियम की धारा 143 IC Act Section-143 के अनुसार कोई भी प्रत्याभूति जो लेनदार ने तात्त्विक परिस्थिति के बारे में मौन धारण से अभिप्राप्त की है, अविधिमान्य है।

भारतीय संविदा अधिनियम की धारा 143 (IC Act Section-143 in Hindi)

छिपाव द्वारा अभिप्राप्त प्रत्याभूति अविधिमान्य होगी-

कोई भी प्रत्याभूति जो लेनदार ने तात्त्विक परिस्थिति के बारे में मौन धारण से अभिप्राप्त की है, अविधिमान्य है।
दृष्टांत
(क) क अपने लिए रुपए का संग्रहण करने के लिए ख को लिपिक के तौर पर रखता है। ख अपनी कुल प्राप्तियों का सम्यक् लेखा देने में असफल रहता है और परिणामस्वरूप क उससे यह अपेक्षा करता है कि वह अपने द्वारा सम्यक् रूप से लेखा दिए जाने के लिए प्रतिभूति दे । ख द्वारा सम्यक् रूप से लेखा दिए जाने की प्रत्याभूति ग दे देता है । ग को ख के पिछले आचरण से क अवगत नहीं करता है। तत्पश्चात् ख लेखा देने में व्यतिक्रम करता है। प्रत्याभूति अविधिमान्य है।
(ख) ग द्वारा ख को 2,000 टन परिणाम तक प्रदाय किए जाने वाले लोहे के लिए संदाय की प्रत्याभूति ग को क देता है । ख और ग ने प्राइवेट तौर पर करार कर लिया है कि ख बाजार-दाम से पांच रुपया प्रति टन अधिक देगा जो अधिक रकम एक पुराने ऋण के समापन में उपयोजित की जाएगी। यह करार कैसे छिपाया गया है। क प्रतिभू के तौर पर दायी नहीं है।

Indian Contract Act Section-143 (IC Act Section-143 in English)

Guarantee obtained by concealment invalid-

Any guarantee which the creditor has obtained by means of keeping silence as to material circumstances, is invalid.
Illustrations
(a) A engages B as clerk to collect money for him. B fails to account for some of his receipts, and A in consequence calls upon him to furnish security for his duly accounting. C gives his guarantee for B‟s duly accounting. A does not acquaint C with B‟s previous conduct. B afterwards makes default. The guarantee is invalid.
(b) A guarantees to C payment for iron to be supplied by him to B to the amount of 2,000 tons. B and C have privately agreed that B should pay five rupees per ton beyond the market price, such excess to be applied in liquidation of an old debt. This agreement is concealed from A. A is not liable as a surety.

हमारा प्रयास भारतीय संविदा अधिनियम (Indian Contract Act Section) की धारा 143 की पूर्ण जानकारी, आप तक प्रदान करने का है, उम्मीद है कि उपरोक्त लेख से आपको संतुष्ट जानकारी प्राप्त हुई होगी, फिर भी अगर आपके मन में कोई सवाल हो, तो आप कॉमेंट बॉक्स में कॉमेंट करके पूछ सकते है।

Leave a Comment