fbpx

आईपीसी की धारा 378, 379, चोरी करना, चोरी के लिए दण्ड | IPC Section-378 in hindi | IPC Section-379 in hindi | Theft | Punishment for theft.

नमस्कार दोस्तों, आज हम आपके लिए भारतीय दंड संहिता की धारा 378 एवम् 379 के बारे में सम्पूर्ण जानकारी देंगे। क्या कहती है भारतीय दंड संहिता की धारा 378 एवम् 379? साथ ही हम आपको IPC की धारा 378 एवम् 379 के अंतर्गत कैसे क्या सजा मिलती है और जमानत कैसे मिलती है, और यह अपराध किस श्रेणी में आता है, इस लेख के माध्यम से आप तक पहुंचाने का प्रयास करेंगे।

धारा 378 (Theft) का विवरण

भारतीय दण्ड संहिता (IPC) में आज हम आपको महत्वपूर्ण धारा के विषय में पूर्ण जानकारी देंगे। साथ ही बचाव और क्या जुर्माना भी देना भी पड़ सकता है। आइए जानते हैं कि यदि कोई व्यक्ति किसी की मूल्यवान वस्तु, संपत्ति अथवा किसी वस्तु को, बिना उसकी सम्मति के लेना या उठाना, चोरी कहलाती हैं । तब यह धारा 378 किसी व्यक्ति पर लागू होगी ।  इसके लिए आपको दण्ड IPC की धारा 379 के अंतर्गत मिलेगा।

आईपीसी की धारा 379 के अनुसार-

चोरी के लिए दंड-

जो कोई चोरी करेगा, वह दोनों में से, किसी भांति के कारावास से, जिसकी अवधि 3 वर्ष तक की हो सकेगी, या जुर्माने से, या दोनों से, दंडित किया जाएगा।
Punishment for theft-
Whoever commit theft shall be punished with imprisonment of either description for a terms which may extend to three years, or with fine, or with both.

लागू अपराध

चोरी करना।
सजा– तीन वर्ष के लिए कारावास या जुर्माना भी या दोनों हो सकते है ।
यह एक अजमानती, संज्ञेय अपराध है और किसी भी मजिस्ट्रेट द्वारा विचारणीय है।
यह अपराध पीड़ित व्यक्ति/मालिक (किसी वस्तु या संपत्ति के मालिक) द्वारा समझौते योग्य है ।

सजा (Punishment) का प्रावधान

जो कोई किसी की संपत्ति अथवा किसी मूल्यवान वस्तु को चोरी करता है, अर्थात् किसी भी प्रकार कोई भी चोरी करता है, तो आईपीसी धारा 378 के अंतर्गत अपराधी होगा, जिसमे धारा 379 के अंर्तगत सजा का प्रावधान दिया गया है । जिसमें तीन वर्ष के लिए कारावास या  जुर्माना या फिर दोनों भी हो सकते हैं ।

जमानत (Bail) का प्रावधान

जो कोई किसी की संपत्ति अथवा किसी मूल्यवान वस्तु को चोरी करता है, अर्थात् किसी भी प्रकार कोई भी चोरी करता है, वह भी दंडनीय होगा।  यह एक संज्ञेय अपराध है, और साथ ही इस अपराध की जमानती नहीं है। यह अपराध पीड़ित व्यक्ति/मालिक (किसी वस्तु या संपत्ति के मालिक) द्वारा समझौते योग्य है ।

अपराधसजाअपराध श्रेणीजमानतविचारणीय
चोरी करना।तीन वर्ष के लिए कारावास या जुर्माना भी या दोनों।संज्ञेयगैर-जमानतीयकिसी भी मजिस्ट्रेट

हमारा प्रयास धारा 378 एवंम् 379 पूर्ण जानकारी प्राप्त कराने का है। अगर आपके मन में कोई सवाल हो,तो आप कॉमेंट बॉक्स में कॉमेंट करके पूछ सकते है ।

24 thoughts on “आईपीसी की धारा 378, 379, चोरी करना, चोरी के लिए दण्ड | IPC Section-378 in hindi | IPC Section-379 in hindi | Theft | Punishment for theft.”

  1. किसी व्यक्ति ने चोरी कर ली ओर फिर उसकी जमानत के बाद तारीख चलती है, उसके बाद अंत मे राजीनामा कैसे होता है

    Reply
  2. यदि किसी को चोरी के झूठे केस में फंसाया गया हो तो क्या करे????
    कृपया वर्णन करें।🙏

    Reply
  3. सर मेरे सात लाख इकतालीस हजार की नगद राशि चोरी हुई थी जिसमें तीन आरोपी थे एक को पकड़ लिया पर राशि अभी तक बरामद नहीं हुई है इसके लिए क्या करें

    Reply
    • तीन आरोपी वैसे कहा है और अगर जेल मे है तो न्यायालय सुनवाई मे बोलो कि अभी तक वो रूपये बरामद नही हुये।

      Reply
  4. Agar koi galti se dusre ka saaman uthate huye pakra jata hai aur use chori samjha jata hai. Jabki doshi inshan ka saaman bhi aas paas me ho to Kaun si dhara lagegi

    Reply
  5. अ ने ब का कैमरा चुराया तथा स को बेच दिया, लेकिन स को यह नहीं पता था कि जो कैमरा उसने खरीदा है वह चोरी का है ! ब ने अ और स के विरुद्ध चोरी का मामला दर्ज कराया क्या स भी चोरी के अपराध का दोषी होगा ?

    Reply
    • स पूर्णतयाः चोरी का दोषी नही है, लेकिन वह धारा 411 का दोषी हो सकता है, यदि उसे ज्ञात हो जाता है कि सम्पत्ति चुराई हुयी है, तो 411 लागू होगी। जिसमे 3 वर्ष का कारावास एवंम् जुर्माने का प्रावधान है।

      Reply
        • 3 वर्ष का कारावास और जुर्माना, जुर्माना चोरी हुयी वस्तु/सम्पत्ति के आधार पर न्यायालय जुर्माना लगायेगी।

          Reply
  6. SIR SECURITY GARD RAT KI DUTY ME CHORI HUI . EK MAHINE HO GAYE AB MALIK BOLRAHA HAI CHORI KA FIR KARO . SECURITY GARD SIDHA SADHA ADMI HAI WO JHAMALE ME NAHI PARNA CHAHATA HAI. TO KYA KARNA CHAHIYE GARD KO. KYA GARD KE UPPER BHI CHORI KA ILZAM LAG SAKTA HAI.LAG SAKTA HAI TO KYA HOGA PARINAM

    Reply
  7. Hello sire mere se ak bhul huve hai mene apne papa ke sare paise unko bataye Bina kharch kar diye hai ab papa FIR karege to mujhe kitni saja hogi

    Reply
  8. Sir
    1 factory me kaam karne wale ladke ne factory main chori karli thi 9 mahine pehle kya ab us par koi case Kar sakti h
    Jabki Malik ne 250000 lakh rupees le liye h ab dahmkiya de rha police ki ab kya kare btaye please sir

    Reply
    • अगर तुम्हारे पास सारे साक्ष्य है कि उसने चाोरी किया, प्रमाणित कर सकते हो, तो FIR दर्ज करा दो।

      Reply
  9. सर कोई चोरी केस मे अंदर गया है IPC 379 लगा है तो बेल के लिए कब apply कर सकते है

    Reply
    • और कौन कौन सी धाराये लगी है, उसी के आधार पर ही सजा सुनायेगी कोर्ट। ऐसे बता पाना मुश्किल

      Reply
    • हां अगर कोई आपके ऊपर आरोप लगा रहा है, तो आप अपने आपको साक्ष्य सामने रखकर निर्दोष साबित करे।

      Reply

Leave a Comment