fbpx

कंपनी अधिनियम की धारा 1| Companies Act Section 1

कंपनी अधिनियम Companies Act (Companies Act Section-1 in Hindi) के विषय में पूर्ण जानकारी देंगे। कंपनी अधिनियम की धारा 1 के अनुसार कंपनी का संक्षिप्त नाम, विस्तार, प्रारम्भ और अनुप्रयोग इत्यादि जानकारी, Companies Act Section-1 के अन्तर्गत परिभाषित किया गया है।

कंपनी अधिनियम की धारा 1 (Companies Act Section-1) का विवरण

कंपनी अधिनियम की धारा 1 Companies Act Section-1 के अनुसार कंपनी का संक्षिप्त नाम, विस्तार और प्रारम्भ जैसे समस्त जानकारी यह कंपनी अधिनियम की धारा 1 के अंतर्गत परिभाषित करती है।

कंपनी अधिनियम की धारा 1 (Companies Act Section-1 in Hindi)

संक्षिप्त शीर्षक, विस्तार, प्रारंभ और अनुप्रयोग

(1) इस अधिनियम का संक्षिप्त नाम कंपनी अधिनियम, 2013 है।

(2) इसका विस्तार संपूर्ण भारत पर है ।

(3) यह धारा तुरंत प्रवृत्त होगी और इस अधिनियम के शेष उपबंध उस तारीख को । प्रवृत्त होंगे, जो केन्द्रीय सरकार, राजपत्र में अधिसूचना द्वारा, नियत करे और इस अधिनियम के भिन्न-भिन्न उपबंधों के लिए भिन्न-भिन्न तारीखें नियत की जा सकेंगी और ऐसे किसी उपबंध में इस अधिनियम के प्रारंभ के प्रति किसी निर्देश का यह अर्थ लगाया जाएगा कि वह उस उपबंध के प्रवृत्त होने के प्रति निर्देश है ।

(4) इस अधिनियम के उपबंध निम्नलिखित को लागू होंगे

(क) इस अधिनियम के अधीन या किसी पूर्व कंपनी विधि के अधीन निगमित कंपनियों को

(ख) बीमा कंपनियों को, वहां के सिवाय, जहां तक उक्त उपबंध बीमा अधिनियम, 1938 या बीमा विनियामक और विकास प्राधिकरण अधिनियम, 1999 . के उपबंधों से असंगत हैं;

(ग) बैंककारी कंपनियों को, वहां के सिवाय, जहां तक उक्त उपबंध बैंककारी विनियमन अधिनियम, 1949 के उपबंधों से असंगत हैं;

(घ) विद्युत के उत्पादन या प्रदाय में लगी कंपनियों को, वहां के सिवाय, जहां तक उक्त उपबंध विद्युत अधिनियम, 2003 के उपबंधों से असंगत हैं;

(ङ) तत्समय प्रवृत्त किसी विशेष अधिनियम द्वारा शासित किसी अन्य कंपनी को, वहां के सिवाय, जहां तक उक्त उपबंध ऐसे विशेष अधिनियम के उपबंधों से असंगत हैं; और

(च) तत्समय प्रवृत्त किसी अधिनियम द्वारा निगमित, ऐसे निगमित निकाय को, जिसको केंद्रीय सरकार, अधिसूचना द्वारा, ऐसे अपवादों, उपांतरणों या अनुकूलन के अधीन रहते हुए, जो अधिसूचना में विनिर्दिष्ट किए जाएं, इस निमित्त विनिर्दिष्ट करे।

Companies Act Section-1 (Company Act Section-1 in English)

Short title, extent, commencement and application–

(1) This Act may be called the Companies  Act, 2013. 

(2) It extends to the whole of India. 

(3) This section shall come into force at once and the remaining provisions of this Act shall come into  force on such date1as the Central Government may, by notification in the Official Gazette, appoint and  different dates may be appointed for different provisions of this Act and any reference in any provision to  the commencement of this Act shall be construed as a reference to the coming into force of that provision. 

(4) The provisions of this Act shall apply to— 

(a) companies incorporated under this Act or under any previous company law; 

(b) insurance companies, except in so far as the said provisions are inconsistent with the  provisions of the Insurance Act, 1938 (4 of 1938) or the Insurance Regulatory and Development  Authority Act, 1999 (41 of 1999); 

(c) banking companies, except in so far as the said provisions are inconsistent with the provisions  of the Banking Regulation Act, 1949 (10 of 1949); 

(d) companies engaged in the generation or supply of electricity, except in so far as the said  provisions are inconsistent with the provisions of the Electricity Act, 2003 (36 of 2003); 

(e) any other company governed by any special Act for the time being in force, except in so far as  the said provisions are inconsistent with the provisions of such special Act; and 

(f) such body corporate, incorporated by any Act for the time being in force, as the Central  Government may, by notification, specify in this behalf, subject to such exceptions, modifications or  adaptation, as may be specified in the notification. 

हमारा प्रयास कंपनी अधिनियम (Companies Act Section) की धारा 1 की पूर्ण जानकारी, आप तक प्रदान करने का है, उम्मीद है कि उपरोक्त लेख से आपको संतुष्ट जानकारी प्राप्त हुई होगी, फिर भी अगर आपके मन में कोई सवाल हो, तो आप कॉमेंट बॉक्स में कॉमेंट करके पूछ सकते है।

Leave a Comment