fbpx

भारतीय संविदा अधिनियम की धारा 180 | Indian Contract Act Section 180

भारतीय संविदा अधिनियम Indian Contract Act (ICA Section-180) in Hindi के विषय में पूर्ण जानकारी देंगे। भारतीय संविदा अधिनियम की धारा 180 के अनुसार यदि कोई पर-व्यक्ति उपनिहिती को उपनिहित माल के उपयोग या उस पर कब्जे से दोषपूर्वक वंचित करे या माल को कोई क्षति करे तो उपनिहिती ऐसे उपचारों का उपयोग करने का हकदार है जिनका वैसी दशा में स्वामी उपयोग कर सकता यदि उपनिधान नहीं किया गया होगा, और या तो उपनिधाता या उपनिहिती ऐसे वंचित किए जाने या ऐसी क्षति के लिए पर-व्यक्ति के विरुद्ध वाद ला सकेगा, जिसे IC Act Section-180 के अन्तर्गत परिभाषित किया गया है।

भारतीय संविदा अधिनियम की धारा 180 (Indian Contract Act Section-180) का विवरण

भारतीय संविदा अधिनियम की धारा 180 IC Act Section-180 के अनुसार यदि कोई पर-व्यक्ति उपनिहिती को उपनिहित माल के उपयोग या उस पर कब्जे से दोषपूर्वक वंचित करे या माल को कोई क्षति करे तो उपनिहिती ऐसे उपचारों का उपयोग करने का हकदार है जिनका वैसी दशा में स्वामी उपयोग कर सकता यदि उपनिधान नहीं किया गया होगा, और या तो उपनिधाता या उपनिहिती ऐसे वंचित किए जाने या ऐसी क्षति के लिए पर-व्यक्ति के विरुद्ध वाद ला सकेगा।

भारतीय संविदा अधिनियम की धारा 180 (IC Act Section-180 in Hindi)

उपनिधाता या उपनिहिती द्वारा दोषकर्ता के विरुद्ध वाद-

यदि कोई पर-व्यक्ति उपनिहिती को उपनिहित माल के उपयोग या उस पर कब्जे से दोषपूर्वक वंचित करे या माल को कोई क्षति करे तो उपनिहिती ऐसे उपचारों का उपयोग करने का हकदार है जिनका वैसी दशा में स्वामी उपयोग कर सकता यदि उपनिधान नहीं किया गया होगा, और या तो उपनिधाता या उपनिहिती ऐसे वंचित किए जाने या ऐसी क्षति के लिए पर-व्यक्ति के विरुद्ध वाद ला सकेगा।

Indian Contract Act Section-180 (IC Act Section-180 in English)

Suit by bailor or bailee against wrong-doer-

If a third person wrongfully deprives the bailee of the use or possession of the goods bailed, or does them any injury, the bailee is entitled to use such remedies as the owner might have used in the like case if no bailment had been made; and either the bailor or the bailee may bring a suit against a third person for such deprivation or injury

हमारा प्रयास भारतीय संविदा अधिनियम (Indian Contract Act Section) की धारा 180 की पूर्ण जानकारी, आप तक प्रदान करने का है, उम्मीद है कि उपरोक्त लेख से आपको संतुष्ट जानकारी प्राप्त हुई होगी, फिर भी अगर आपके मन में कोई सवाल हो, तो आप कॉमेंट बॉक्स में कॉमेंट करके पूछ सकते है।

Leave a Comment