fbpx

भारतीय संविदा अधिनियम की धारा 189 | Indian Contract Act Section 189

भारतीय संविदा अधिनियम Indian Contract Act (ICA Section-189) in Hindi के विषय में पूर्ण जानकारी देंगे। भारतीय संविदा अधिनियम की धारा 189 के अनुसार अभिकर्ता को आपात में यह प्राधिकार है कि हानि से अपने मालिक की संरक्षा करने के प्रयोजन से सारे ऐसे कार्य करे जैसे मामूली प्रज्ञावाला व्यक्ति अपने मामले में वैसी ही परिस्थितियों में करता, जिसे IC Act Section-189 के अन्तर्गत परिभाषित किया गया है।

भारतीय संविदा अधिनियम की धारा 189 (Indian Contract Act Section-189) का विवरण

भारतीय संविदा अधिनियम की धारा 189 IC Act Section-189 के अनुसार अभिकर्ता को आपात में यह प्राधिकार है कि हानि से अपने मालिक की संरक्षा करने के प्रयोजन से सारे ऐसे कार्य करे जैसे मामूली प्रज्ञावाला व्यक्ति अपने मामले में वैसी ही परिस्थितियों में करता है।

भारतीय संविदा अधिनियम की धारा 189 (IC Act Section-189 in Hindi)

आपात में अभिकर्ता का प्राधिकार-

अभिकर्ता को आपात में यह प्राधिकार है कि हानि से अपने मालिक की संरक्षा करने के प्रयोजन से सारे ऐसे कार्य करे जैसे मामूली प्रज्ञावाला व्यक्ति अपने मामले में वैसी ही परिस्थितियों में करता।
दृष्टांत
(क) विक्रय-अभिकर्ता माल की मरम्मत करा सकेगा, यदि अवश्यक हो।
(ख) ख को जो कलकत्ते में है, क इस निदेश के साथ रसद परेषित करता है कि वह उसे तुरन्त ही ग के पास कटक भेज दे। यदि वह रसद कटक की यात्रा में खराब होने से नहीं बच सकती तो ख वह रसद कलकत्ते में बेच सकेगा।

Indian Contract Act Section-189 (IC Act Section-189 in English)

Agent’s authority in an emergency-

An agent has authority, in an emergency, to do all such acts for the purpose of protecting his principal from loss as would be done by a person of ordinary prudence, in his own case, under similar circumstances.
Illustrations
(a) An agent for sale may have goods repaired if it be necessary.
(b) A consigns provisions to B at Calcutta, with directions to send them immediately to C, at Cuttack. B may sell the provisions at Calcutta, if they will not bear the journey to Cuttack without spoiling.

हमारा प्रयास भारतीय संविदा अधिनियम (Indian Contract Act Section) की धारा 189 की पूर्ण जानकारी, आप तक प्रदान करने का है, उम्मीद है कि उपरोक्त लेख से आपको संतुष्ट जानकारी प्राप्त हुई होगी, फिर भी अगर आपके मन में कोई सवाल हो, तो आप कॉमेंट बॉक्स में कॉमेंट करके पूछ सकते है।

Leave a Comment