fbpx

भारतीय संविदा अधिनियम की धारा 140 | Indian Contract Act Section 140

भारतीय संविदा अधिनियम Indian Contract Act (ICA Section-140) in Hindi के विषय में पूर्ण जानकारी देंगे। भारतीय संविदा अधिनियम की धारा 140 के अनुसार जहां कि कोई प्रत्याभूत ऋण शोध्य हो गया हो, या प्रत्याभूत कर्तव्य के पालन में मूलऋणी से व्यतिक्रम हो गया हो वहां वे सब अधिकार, जो लेनदार को मूलऋणी के विरुद्ध प्राप्त हों, प्रतिभू द्वारा उस सब के. जिसके लिए वह दायी हो, संदाय या पालन पर प्रतिभू में विनिहित हो जाते हैं, जिसे IC Act Section-140 के अन्तर्गत परिभाषित किया गया है।

भारतीय संविदा अधिनियम की धारा 140 (Indian Contract Act Section-140) का विवरण

भारतीय संविदा अधिनियम की धारा 140 IC Act Section-140 के अनुसार जहां कि कोई प्रत्याभूत ऋण शोध्य हो गया हो, या प्रत्याभूत कर्तव्य के पालन में मूलऋणी से व्यतिक्रम हो गया हो वहां वे सब अधिकार, जो लेनदार को मूलऋणी के विरुद्ध प्राप्त हों, प्रतिभू द्वारा उस सब के. जिसके लिए वह दायी हो, संदाय या पालन पर प्रतिभू में विनिहित हो जाते हैं।

भारतीय संविदा अधिनियम की धारा 140 (IC Act Section-140 in Hindi)

संदाय या पालन होने पर प्रतिभू के अधिकार-

जहां कि कोई प्रत्याभूत ऋण शोध्य हो गया हो, या प्रत्याभूत कर्तव्य के पालन में मूलऋणी से व्यतिक्रम हो गया हो वहां वे सब अधिकार, जो लेनदार को मूलऋणी के विरुद्ध प्राप्त हों, प्रतिभू द्वारा उस सब के. जिसके लिए वह दायी हो, संदाय या पालन पर प्रतिभू में विनिहित हो जाते हैं।

Indian Contract Act Section-140 (IC Act Section-140 in English)

Rights of surety on payment or performance-

Where a guaranteed debt has become due, or default of the principal debtor to perform a guaranteed duty has taken place, the surety upon payment or performance of all that he is liable for, is invested with all the rights which the creditor had against the principal debtor.

हमारा प्रयास भारतीय संविदा अधिनियम (Indian Contract Act Section) की धारा 140 की पूर्ण जानकारी, आप तक प्रदान करने का है, उम्मीद है कि उपरोक्त लेख से आपको संतुष्ट जानकारी प्राप्त हुई होगी, फिर भी अगर आपके मन में कोई सवाल हो, तो आप कॉमेंट बॉक्स में कॉमेंट करके पूछ सकते है।

Leave a Comment