fbpx

किशोर न्याय अधिनियम की धारा 86 | Juvenile Justice Act Section 86

किशोर न्याय अधिनियम JJ Act (Juvenile Justice Act Section-86) in Hindi के विषय में पूर्ण जानकारी देंगे। किशोर न्याय अधिनियम की धारा 86 के अनुसार जो कोई व्यक्ति किसी बालक पर जहां इस अधिनियम के अधीन कोई अपराध सात वर्ष से अधिक की अवधि के कारावास से दंडनीय है, वहां ऐसा अपराध संज्ञेय और अजमानतीय होगा, जिसे JJ Act Section-86 के अन्तर्गत परिभाषित किया गया है।

किशोर न्याय अधिनियम की धारा 86 (Juvenile Justice Act Section-86) का विवरण

किशोर न्याय अधिनियम की धारा 86 JJ Act Section-86 के तहत किशोर न्याय बोर्ड (जेजेबी) जो कोई व्यक्ति किसी बालक पर जहां इस अधिनियम के अधीन कोई अपराध सात वर्ष से अधिक की अवधि के कारावास से दंडनीय है, वहां ऐसा अपराध संज्ञेय और अजमानतीय होगा।

किशोर न्याय अधिनियम की धारा 86 (JJ Act Section-86 in Hindi)

अपराधों का वर्गीकरण और अभिहित न्यायालय-

( 1 ) जहां इस अधिनियम के अधीन कोई अपराध सात वर्ष से अधिक की अवधि के कारावास से दंडनीय है, वहां ऐसा अपराध संज्ञेय और अजमानतीय होगा ।
(2) जहां इस अधिनियम के अधीन कोई अपराध ऐसे कारावास से दंडनीय है जिसकी अवधि तीन वर्ष और उससे अधिक किंतु सात वर्ष से कम है, वहां ऐसा अपराध असंज्ञेय और अजमानतीय होगा।
(3) जहां इस अधिनियम के अधीन कोई अपराध तीन वर्ष से कम के कारावास या केवल जुर्माने से दंडनीय है, वहां ऐसा अपराध असंज्ञेय और जमानतीय होगा।
(4) दंड प्रक्रिया संहिता, 1973 (1974 का 2) या बाल अधिकार संरक्षण आयोग अधिनियम, 2005 (2006 का 4) अथवा लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम, 2012 (2012 का 32) में किसी बात के होते हुए भी इस अधिनियम के अधीन अपराध बालक न्यायालय द्वारा विचारणीय होंगे 

Juvenile Justice Act Section-86 (JJ Act Section-86 in English)

Classification of offences and designated court-

(1) Where an offence under this Act is punishable with imprisonment for a term more than seven years, then, such offence shall be cognizable, non-bailable and triable by a Childrens Court.
(2) Where an offence under this Act is punishable with imprisonment for a term of three years and above, but not more than seven years, then, such offence shall be cognizable, non-bailable and triable by a Magistrate of First Class.
(3) Where an offence, under this Act, is punishable with imprisonment for less than three years or with fine only, then, such offence shall be non-cognizable, bailable and triable by any Magistrate.

हमारा प्रयास किशोर न्याय अधिनियम (Juvenile Justice Act Section) की धारा 86 की पूर्ण जानकारी, आप तक प्रदान करने का है, उम्मीद है कि उपरोक्त लेख से आपको संतुष्ट जानकारी प्राप्त हुई होगी, फिर भी अगर आपके मन में कोई सवाल हो, तो आप कॉमेंट बॉक्स में कॉमेंट करके पूछ सकते है।

Leave a Comment